रविवार, 30 जनवरी 2011

बुराईयाँ और सृज्जनता


अगर आप अपने दिल और दिमाग के थोड़े से भी हिस्से को बुराईयोँ से रिक्त कर देगेँ

तो वह रिक्त स्थान अपने आप सृज्जनता से भर जायेगा ।

2 टिप्‍पणियां:

Mukesh Kumar Sinha ने कहा…

bilkul sach.......:)

Patali-The-Village ने कहा…

बहुत सही विचार है|धन्यवाद|

LinkWithin

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...